अनेकार्थक शब्द II Anekarthak Shabd) II 150+ Important II

अनेकार्थक शब्द (Anekarthak Shabd)


अनेकार्थक शब्द (Anekarthak Shabd)
अनेकार्थक शब्द (Anekarthak Shabd)

अनेकार्थक शब्द (Anekarthak Shabd) :- हिन्दी में कुछ ऐसे शब्द होते है जिनके एक से अधिक अर्थ होते है तथा हम जब उन शब्दों को अलग-अलग प्रयोग करते है तो हमे उनसे अलग-अलग अर्थ प्राप्त होते हैं।

कुछ मुख्य अनेकार्थक शब्द (Anekarthak Shabd) ज्ञानकोश की वृद्धि हेतु दिए जा रहे हैं, जिनके प्रयोग करने से भावी व वर्तमान परीक्षार्थियों को अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो।

अनेकार्थक शब्द (Anekarthak Shabd)

‘अ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • अज = जीव, बकरा, ब्रह्मा, दशरथ के पिता का नाम ।
  • अर्थ = लिए, प्रयोजन, धन, कारण ।
  • अवतंस = थाली, दूल्हा, टीका, श्रेष्ठ, व्यक्ति, भूषण, मुकुट ।
  • अभ्र = कपूर, आकाश, मेघ ।
  • अक्षर = धर्म, वर्ण, सत्य, अविनाशी, ब्रह्म, गगन ।
  • अब्ज = शंख, कमल, चंद्रमा, कपूर, धन्वंतरि ।
  • अनध = शोकहीन, अर्जुन, सुंदर, पापहीन ।
  • अधर = मध्य, शून्य, होंठ, नीचा ।
  • अवली = शृंखला, पूर्ण स्वरग्राम, समूह ।
  • अपेक्षा = बनिस्बत, आवश्यकता, इच्छा, आशा ।
  • अमृत = स्वर्ण, पारा, घृत, जल, दूध ।
  • अतिथि = कुश का बेटा, साधु, यज्ञ में सोमलता लानेवाला, मेहमान, यात्री ।
  • अक्षत = धान्य, हिजड़ा, जौ, समूचा, अखंडित चावल, लावा, क्षतहीन, कल्याण ।
  • अपवाद = कलंक, नियम के विरुद्ध ।
  • अक्ष = सर्प, आत्मा, आँख, चौसर के पासे, पहिया, पहिए की धुरी, सूर्य ।
  • अकिंचन = दरिद्र, अपरिग्रही, कर्मशून्य ।
  • अनंत = शेषनाग, आकाश, विष्णु ।
  • अर्क = आक, सूर्य, विष्णु, स्फटिक, आक, चिंगारी, इंद्र, रविवार, अग्नि, मंदार, चमक ।
  • अरुण = सूर्य, लाल, सूर्य का सारथी ।
  • अहि = कष्ट, राहू, एक वर्ण वृत्त, नाभि, साँप ।

‘आ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • आम = आँव (अधपका भोजन), सर्वसाधारण, आम का फल, मामूली ।
  • आपत्ति = एतराज़, विपत्ति ।
  • आदित्य = वरुण, सविता, मदार, देव, विष्णु, विष्णु का वामन अवतार, 12 की संख्या, सूर्य, भग, मित्र ।
  • आत्मा = देह, जीवात्मा, पत्र, वायु, बुद्धि, ब्रह्मा ।

‘इ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • इला = वैवस्वत मनु की कन्या, गाय, बुध की पत्नी और पुरुरवा की माता, भूमि, सरस्वती ।
  • इंदु = कपूर, चंद्रमा ।

‘ई’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • ईश्वर = धनिक, समर्थ, प्रभु, स्वामी ।

‘उ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • उत्तर = उत्तर दिशा, बदला, जवाब, पश्चात्ताप ।

‘अं’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • अंबर = वस्त्र, आकाश ।
  • अंध = मतांध, चमगादड़, अंधविश्वासी, उल्लू, अंधा ।
  • अंक = चिह्न, स्थान, अध्याय, देह, गोद, गिनती के अंक, भाग्य ।

‘क’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • कुंभ = हाथी का मस्तक, घड़ा ।
  • कोट = रंग, गढ़, चढ़ाने की प्रक्रिया, पहनने का वस्त्र, परकोटा ।
  • केतु = एक ग्रह, निशान, चमक, ज्ञान, ध्वजा ।
  • काल = शिव, मुहूर्त, युग, समय, अवसर ।
  • केश = किरण, विष्णु, बाल, विश्व ।
  • कृष्ण = अंधकार, काला, वासुदेव-पुत्र, कौआ ।
  • क्रिया = व्यवहार, व्यापार, श्राद्ध, कार्य, उपाय ।
  • केसरी = वानर, प्रसिद्ध व्यक्ति, उत्तम वस्तु, सिंह, रोमल, गेरुआ, घोड़ा ।
  • कूट = पर्वत, छल-कपट, शिखर, काग़ज़ ।
  • कर = टैक्स, किरण, हाथ, सूँड़ ।
  • कोटि = श्रेणी, करोड़, धनुष का सिरा ।
  • कंज = केश, ब्रह्मा, कमल, अमृत ।
  • कुशल = ख़ैरियत, चतुर ।
  • कला = गुण, अंश, चंद्रमा का सोलहवाँ भाग ।
  • कल = पुर्ज़ा, कार्य करने का कौशल, सुंदर, मधुर ध्वनि, अंश, बीता हुआ दिन, चैन या शांति ।
  • कर्ण = समकोण, कान, त्रिभुज में सबसे बड़ी भुजा, कुंती-पुत्र, पतवार ।
  • कंक = क्षत्रिय, चील, युधिष्ठिर का छद्म नाम, सफ़ेद, यम ।
  • कनक = पलाश, धतूरा, वृक्ष, सोना, गेहूँ ।

‘ख’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • खर = तीक्ष्ण, बगुला, गधा, तृण, कौआ, दुष्ट, एक राक्षस ।
  • खल = धतूरा, दुष्ट, दवा कूटने की खरल ।
  • खग = चंद्रमा, ग्रह, सूर्य, वायु, बादल, देवता, पक्षी, बाण ।

‘ग’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • गुरु = भारी, बड़ा, दो मात्रावाला स्वर, बृहस्पति, शिक्षक, श्रेष्ठ ।
  • गो = सूर्य, बाण, सरस्वती, भूमि, आँख, बाल, बैल, स्वर्ग, गाय, माता, इंद्रिय ।
  • गायत्री = गायत्री देवी, दुर्गा देवी, सावित्री देवी, वैदिक छंद, गंगा नदी, पार्वती देवी ।
  • गति = मोक्ष, चाल, स्थिति ।
  • गुण = प्रत्यंचा, कौशल, विशेषता, रस्सी, स्वभाव ।
  • गण = छंदशास्त्र के आठ गण, रुद्र के अनुचर, समूह, सेना ।

‘घ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • घी = मनोवृत्ति, पुत्री, ज्ञान, बुद्धि ।
  • घना = हथौड़ा, बादल, कपूर, सघन, दाना, मोटा ।

‘च’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • चंद्र = सोना, नासिक वर्ण चिह्न (-), कपूर, साधु, मोर की पूँछ, चंद्रमा, जल ।
  • चारा = उपाय, घास ।
  • चश्मा = झरना, ऐनक ।

‘छ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • छंद = पद्य-रचना ,अभिप्राय, नियमबद्, जल, एकांत, नियम, वेद, रंग ।

‘ज’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • जगत् = शंकर, पनघट, टेक, संसार, वायु ।
  • जलज = मछली, शंख, कमल, चंद्रमा, सेवार, शैवाल, मोती ।
  • जाल = जानवरों को पकड़ने हेतु रस्सी की बुनावट, छल, माया, जाला ।
  • ज्येष्ठा = मध्यमा अंगुली, 18वाँ नक्षत्र, पति प्रिया, गंगा ।
  • जलधर = समुद्र, बादल ।
  • जंघाल = धावक, हरिण, दूत, विश्वामित्र के एक पुत्र का नाम ।
  • ज्योत्स्ना = रात, चाँदनी, सौंफ ।
  • जीवन = पुत्र, आजीविका, गंगा, प्राण, जल ।

‘ट’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • टीका = टिप्पणी, अभिषेक, आलोचना, तिलक, मस्तक का आभूषण ।

‘त’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • तारा = बृहस्पति की पत्नी, आँख की पुतली, नक्षत्र, बलि की पत्नी ।
  • ताल = संगीत में ताल, जलाशय, ताड़वृक्ष ।
  • तीर = निकट, किनारा, बाण, सरोवर ।
  • तारक = महादेव , राक्षस, नौका, तारा, हठयोग, आँख की पुतली, तारनेवाला, नाविक ।
  • तत्त्व = परिणाम, सार, उद्देश्य, सूक्ष्मज्ञान, सत्य, धर्म ।
  • तरणि = नाव (तरणी), मदार का वृक्ष, सूर्य, किरण ।
  • तम = राहू, तमाल वृक्ष, अज्ञान, तमोगुण, अंधकार, पाप ।
  • तंत्र = उपाय, प्रबंध, औषधि, ख़ज़ाना, सिद्धांत, शासन ।

‘द’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • दंड = सेना, सज़ा, यमराज, डंडा, साठ पल की समय-अवधि ।
  • दक्षिण = चतुर, दक्षिण दिशा, सरल, अनुकूल, उदार ।
  • द्विज = चंद्रमा, पक्षी, द्विजन्मा, ब्राह्मण, दाँत ।
  • द्वंद्व = जोड़, समास का प्रकार, कलह, रहस्य ।
  • द्रव्य = धातु, घटक, पदार्थ, धन ।

‘ध’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • धन = पुश्रकसार, संपत्ति, मुक़ाबला, आवाज़, जोड़ (+), स्त्री ।
  • धनंजय = एक वृक्ष, आग, विष्णु, अर्जुन, वायु
  • धर्म = रीति, स्वभाव, व्यवस्था, कर्म, कर्तव्य, यज्ञ, संप्रदाय, शुभ, न्याय, आचार ।
  • ध्रुव = नित्य, ध्रुवतारा, विष्णु, स्थिर, विष्णु भक्त ।
  • धातु = रक्त, अष्टधातु, रस, प्रकृति, स्वर्ग, सोना, वीर्य, ईश्वर, शब्द का मूलरूप ।

‘न’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • नाग = राँगा, पर्वत, एक जाति विशेष, हाथी, बादल, एक देश, साँप, नागरमोथा, वायु का एक भेद ।
  • निर्वाण = विश्राम, मृत्यु, शून्य, मोक्ष, संगम ।
  • निशाचर = प्रेत, राक्षस, चोर, उल्लू ।
  • नग = वृक्ष, नगीना, जड़, पहाड़, पदार्थ ।
  • नव = नया, नौ की संख्या ।
  • नीलकंठ = नीले कंठवाला पक्षी विशेष, शंकर, मोर ।

‘प’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • पद = विभक्तियुक्त शब्द, चिह्न, किसी छंद का चतुर्थांश, पाँव, स्थान ।
  • पद्म = सर्प विशेष, संख्या विशेष, कमल, श्रीराम ।
  • पान = पत्ता, पीना, तंबाकू ।
  • पत्र = चिट्ठी, पत्ता, पंख ।
  • पृष्ठ = पन्ना, पीठ, पीछे का भाग ।
  • पतंग = टिड्डी, गुड्डी, फतिंगा, सूर्य, पक्षी ।
  • पुष्कर = सर्प, मद, सूर्य, पुष्कर तीर्थ, हाथी की सूंड का अग्र भाग, बाण, युद्ध, कमल, आकाश, तालाब ।
  • पिंड = जीविका, पितरों के लिए देय, शरीर, गोल ।
  • पक्ष = वाद का एक रूप, पखवाड़ा, ओर, बल, पंख, दल ।
  • पल = वन, महादेव, खंड, हथेली, स्वभाव, तला, नीचे ।
  • पंक = दलदल, कीचड़, पाप ।
  • पट = स्थान, किवाड़, मुख्य, वस्त्र, यवनिका ।
  • पय = अन्न, पानी, आहार, शक्ति, दूध, वीर्य ।
  • पानी = चमक, जल, इज़्ज़त ।

‘प्र’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • प्रभाव = दबाव, महिमा, असर, सामर्थ्य ।
  • प्रत्यय = निश्चय, ज्ञान, कारण, विश्वास, शब्द के बाद में जुड़नेवाला शब्दांश ।
  • प्रकृति = मित्र, ख़ज़ाना, स्वामी, स्वामी, स्त्री, धर्म, राज्य, माया, माता, जन्म, स्वभाव, मूलतत्त्व, मूल शब्द, माया ।
  • प्राण = ब्रह्मा, जीव, प्राण वायु, ईश्वर ।
  • प्रसव = फल, जन्म, फूल ।

‘फ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • फल = ढाल, वृक्ष से प्राप्त होनेवाला खाद्य, संतान, मेवा, परिणाम, चर्म ।

‘ब’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • ब्याज = बहाना, सूद, छल ।
  • बंसी = कृष्णादि के चरण-चिह्न, मछली फँसाने का काँटा, बाँसुरी, विष्णु ।

‘म’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • मधु = शक्कर, बसंत ऋतु, मुलेठी, शराब, जल, दूध, शहद, एक दैत्य, पराग ।
  • मान = पैमाना, इज़्ज़त, क्रोध, अभिमान, नाप-तौल ।
  • महावीर = शक्तिशाली, हनुमान, जैन तीर्थंकर ।
  • मतंग = हाथी, ऋषि ।
  • माधव = वैशाख मास, महुआ, वसंत ऋतु, कृष्ण, विष्णु ।
  • मित्र = सहयोगी, सूर्य, दोस्त, प्रिय ।

‘र’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • रस = पारा, अर्क, काव्य के नौ रस, प्रेम, तत्त्व, भोजन के छह रस, आनंद, मेल, स्वाद ।
  • रश्मि = घोड़े की लगाम, किरण, डोरी ।
  • रसिका = श्रीखंड, जीभ, करधनी, प्रेमिका ।

‘ल’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • लगन = धुन, मुहूर्त, लौ, प्रेम ।
  • लक्ष्य = उद्देश्य, निशाना ।

‘व’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • वर्ष = पृथ्वी का एक खंड, संवत्, साल, दृष्टि ।
  • विग्रह = शरीर, देवता की मूर्ति, लड़ाई ।
  • व्रज्या = रंगभूमि, पगडंडी, भिक्षाटन, आक्रमण, श्रेणी, तपस्या, यात्रा ।
  • वर्तमान = समय, विद्यमान, प्रचलित ।
  • विक्रांत = सिंह, विजेता, कदम, चलने का ढंग, गोमेद, वीर ।
  • वर = आशीर्वाद, वरदान, दूल्हा, श्रेष्ठ ।
  • वर्ण = पोशाक, ध्वनि, आवरण, समूह, अक्षर, प्रशंसा, जाति, सोना, रंग ।

‘श’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • शिव = मंगल, शंकर, शुभ ।
  • शंकु = भाला, खूँटा, हुक, कील, बाणाग्र ।
  • शिलीमुख = बाण, मूर्ख, भौंरा ।
  • शेष = सीमा, अंत, बचा हुआ, सर्प ।
  • शकल = छिल, भाग, आकृति, चिह्न ।
  • शुद्ध = जिसमें मिलावट न हो, पवित्र, ठीक ।

‘श्र’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • श्रुति = कान, सुनना, वेद, वाद ।
  • श्री = कुंकुम, लक्ष्मी, वाणी, शोभा, संपदा ।

‘स’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • सैंधव = नमक का प्रकार, घोड़ा
  • सर = पराजित, तालाब, सिर, चोटी, चिता ।
  • सोम = स्वर्ग, सोमवार, जल, कुबेर, अमृत, वायु, यम, चंद्रमा ।
  • सारंग = सिंह, बादल, हाथी, चातक, कोयल, मोर, हरिण, भौंरा, वृक्ष, पानी, एक राग, कामदेव, वस्त्र, समुद्र आदि, आभूषण, बाल, चंदन, शोभा, शिव, धनुष, पुष्प, आकाश, प्रकाश, शंक, पृथ्वी, चंद्रमा, सर्प ।

‘ह’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • हेम = स्वर्ण, केसर, इज़्ज़त, पीला रंग, नाग, बर्फ़ ।
  • हलधर = किसान, बलराम, बैल ।
  • हीन = निकृष्ट, दीन, रहित ।
  • हरकत = नटखटपन, चेष्टा, गति ।
  • हस्ती = अस्तित्व, हाथी ।
  • हरि = वायु, सूर्य, मेंढ़क, पर्वत, घोड़ा, बंदर, यमराज, सर्प, चंद्रमा, किरण, विष्णु, कोयला, सिंह ।
  • हंस = घोड़ा, सूर्य, योगी, सफ़ेद, मराल, जीवात्मा ।

‘क्ष’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • क्षेत्र = गृह, शरीर, नगर, खेत, स्त्री ।
  • क्षमा = रात्रि, सहिष्णुता, दुर्गा, पृथ्वी, दया ।

‘ऋ’ से शुरू होने वाले अनेकार्थक शब्द

  • ऋत = मोक्ष, यज्ञ, वृत्ति-विशेष, आदित्य, सत्य ।
  • ऋक्ष = रैवतक पर्वत का एक अंश, भालू, नक्षत्र, शौनक वृक्ष ।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*